सोमवार, 21 नवंबर 2011

आज का चिंतन

ईश्वर हमारे साथ है. पुरुषार्थ करने की, काम करने की शक्ति ईश्वर ही हमें प्रदान करता है. इस भावना से प्रेरित होकर जिएंगे तो हमारे जीवन में दिव्यता का अनुभव अवश्य होगा. हमारा कर्म ही हमारी भक्ति बनेगा, उन्नति के लिए साधन बनेगा.
.......रमेश भाई ओझा "भाईजी"

1 टिप्पणी:

  1. सत्य वचन ...समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं