बुधवार, 28 दिसंबर 2011

आज का चिंतन

सहानुभूति ऐसी विश्व-व्यापक भाषा है, जिसे सभी प्राणी समझते हैं.   (संकलित)

1 टिप्पणी:

  1. जी हाँ आप ने बिलकुल ठीक कहा सहानुभूति की भाषा सब समझते है.......पहली बार ब्लॉग पर आना हुआ ,अलग तरह का ब्लॉग बनाया आप ने ख़ुशी हुई देख कर......:)

    उत्तर देंहटाएं