गुरुवार, 27 अक्तूबर 2011

आज का चिंतन

स्वस्थ शरीर आत्मा का अतिथि भवन है ऑर अस्वस्थ शरीर इसका कारागार. (संकलित)

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर चिंतन है आपका वीना जी.

    दीपावली व गोवर्धन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है.

    आपके सद् वचन का मैं अनुसरण कर रहा हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  2. मुझे खुशी है कि मैं 'दश नम्बरी' हो गया हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह - बहुत सुन्दर बात कही है | राकेश भैया के ब्लॉग से यहाँ आई हूँ, बहुत अच्छा लगा यहाँ आ कर

    धन्यवाद :)

    उत्तर देंहटाएं