मंगलवार, 21 जून 2011

आज का चिंतन - सुख और दुःख

ईश्वर ने कभी वायदा नहीं किया कि आकाश हमेशा नीला ही रहेगा, आजीवन रास्ते में फूल ही फूल बिखरे मिलेंगे. उसने कभी नहीं कहा कि आकाश में सूर्य हमेशा चमकता ही रहेगा, बादलों से कभी नहीं ढकेगा. उसने दुःख और वेदना के बगैर जीवन में शान्ति का कोई वायदा नहीं किया है.
                          .......ए.पी.जे. अब्दुल कलाम 

6 टिप्‍पणियां:

  1. सही है। और लोग तयशुदा चीजें चाहते हैं।
    और सबसे तयशुदा चीज मौत से बचते, डरते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. eeshwar ne wada to kuchh nahi kiya, kintu wo sab kuchh bina maange diya hai jiski hame jarurat hai...

    उत्तर देंहटाएं
  3. हमारी असीमित आकांक्षाएं दुःख का कारण बनती हैं...सार्थक चिंतन...सादर !!

    उत्तर देंहटाएं