बुधवार, 22 जून 2011

आज का चिंतन - ध्यान

ध्यान का सिर्फ इतना अर्थ है कि हम अतीत और भविष्य को छोड़ कर गुजर रहे वर्त्तमान क्षण में जियें. ऐसा करने के लिए आँख बंद करके कहीं बैठना जरूरी नहीं है. सब कुछ करते हुए भी हम ध्यान की अवस्था में रह सकते हैं. यही योग है.
                                            ...............जे.कृष्णमूर्ति 

5 टिप्‍पणियां:

  1. बिल्कुल सही कहा …………॥यही ध्यान है सब कुछ करते हुये भी मन एक मे लिप्त रहे।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सच कहा है...अपने कर्तव्यों को पूरा करना ही सबसे बड़ा योग है..

    उत्तर देंहटाएं
  3. atit to jeene nahi deta hai per kosish to jari rakhni hi hogi

    उत्तर देंहटाएं
  4. ओशो ने भी तो कहा था किसी कार्य को इतनी तन्मयता से करना कि देह की सुधि न रहे-- घ्यान है।

    उत्तर देंहटाएं