रविवार, 26 जून 2011

आज का चिंतन - सेवाभाव

दुनिया में रहते हुए भी सेवाभाव से और सेवा के लिए ही जो जीता है, वह सन्यासी है.
                                            ......महात्मा गांधी 
                                                                                                                                                             

2 टिप्‍पणियां:

  1. पहली बार आई हूं आपके ब्लाग पर.....Beautiful expression....very impressive thoughts.

    हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. nitya naye naye thoughts padne ko milte hai ......bahut hi sunder

    उत्तर देंहटाएं